pudina thumbnail

benifits of mint (pudina ke fayde in hindi)

benifits of mint (pudina ke fayde in hindi)

पुदीने की खुशबू और स्‍वाद ताजगी भरने के लिए काफी होता है। isliye aaj ham aapko pudina ke fayde in hindi me acticle likh rahe hai …इसमें विटामिन ‘ए’ की भरपूर मात्रा होती है। pudina ke fayde for skin जो हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होती है। इसके साथ ही इसमें कई अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी हैं। भोजन का जायका बढ़ाने में भी पुदीने का इस्‍तेमाल किया जाता है। पेट की तकलीफ में भी पुदीने का जवाब नहीं। आइए जानते हैं कि इन हरी महकदार पत्तियों में और क्‍या-क्‍या गुण समाये हैं।

सांसें महकाये ( pudina se muh ki badbu door ki jaa sakti hai )

साँसे महकाए
साँसे महकाए

सांसों की दुर्गंध को दूर करने के लिए पुदीने की सूखी पत्तियों के चूर्ण से मंजन करें। यह न केवल आपकी सांसों को ताजा बनाता है, बल्कि साथ कई अन्‍य दंत समस्‍याओं से भी छुटकारा दिलाता है। इसके साथ ही इससे मसूड़े भी मजबूत होते हैं।

पिंपल दूर भगायें pudina ke fayde for skin

pimpal dur bhagaye
pimpal dur bhagaye

पुदीने की कुछ पत्तियां लेकर पीस लें। उसमें 2-3 बूंदे नींबू का रस मिलाकर इसे चेहरे पर कुछ देर के लिए लगाएं। फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें। कुछ दिन ऐसा करने से मुंहासे ठीक हो जाएंगे और चेहरे पर चमक भी आ जाएगी।

बीपी को करे काबू pudina se bp control kaise kare

bp ko kare kabu
bp ko kare kabu

पुदीना उच्‍च और निम्‍न दोनों प्रकार के बीपी में मददगार होता है। हाई बीपी से पीड़ित व्यक्ति को बिना चीनी एवं नमक डाले ही पुदीने का सेवन करना चाहिए। जबकि लो बीपी के रोगी को पुदीने की चटनी या रस में सेंधा नमक, काली मिर्च, किशमिश डालकर सेवन करना चाहिए।

पेट के लिए अमृत pudina for stomech problems

pet k liye amrit
pet k liye amrit

पुदीना पेट की कई बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। पेट की समस्‍याओं से बचने के लिए पुदीने का किसी न किसी रूप में प्रतिदिन सेवन अवश्य करना चाहिए। पुदीने की पत्तियों का ताजा रस नीबू और शहद के साथ समान मात्रा में लेने से पेट की हर बीमारियों में आराम दिलाता है।

pudina ke fayde in hindi

सांस संबंधी रोगों में फायदेमंद pudina for oral problems

sas sambandhit rogo me fayde mand

पुदीने में फेफड़ों में जमा हुए बलगम को शरीर से बाहर का विलक्षण गुण पाया जाता है। इसी कारण कफ से होने वाली खांसी और अस्‍थमा को दूर करता है। पुदीने को सुखाकर, इसे कपड़े से छानकर बारीक चूर्ण बना लें। इस चूर्ण की एक चम्‍मच दिन में दो बार पानी के साथ लें।

मासिक धर्म में लाभकारी pudina benifit in piriods

masik dharam me labhkari
masik dharam me labhkari

अगर आपका मासिक धर्म समय पर नहीं आता तो आप पुदीने का सेवन करें। इसके लिए पुदीने की सूखी पत्तियों के चूर्ण को शहद के साथ समान मात्रा में मिलाकर दिन में दो से तीन बार नियमित रूप से सेवन करें। यह मासिक धर्म की परेशानियों में बहुत लाभकारी साबित होता है।

पुदीना है तो नो डिहाइड्रेशन

no dehydration
no dehydration

डिहाइड्रेशन यानि पानी की कमी की घातक अवस्‍था से बचने के लिए पुदीना बहुत ही लाभकारी है। डिहाइड्रेशन में पुदीना, प्याज और नींबू का रस बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर पिलाने से लाभ होता है। उल्टी-दस्त, डिहाइड्रेशन हो तो आधा कप पुदीने का रस हर दो घंटे के अन्‍तर में रोगी को पिलाएं।

Read our more posts related to health CLICK HERE FOR HEALTH POSTS

Benefits of Eating Sprouted Gram in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *